नहले पर दहला

किसी गांव में एक कुम्हार रहता था। उसके एक बेटा था उसका नाम कृष् था। कुम्हार मिट्टी के बर्तन बनाता था उससे उसको अच्छे दाम मिल जाते थे ।वह घड़े भी सुंदर सुंदर बनाता था जब वह उन घड़ो को बनाता था तो उसका बेटा भी उसे बड़े ध्यान से देखता रहता था। वह स्कूल… Continue reading नहले पर दहला

Posted in Uncategorized

समझदार दोस्त

विकी जैसे ही घर आया वह बहुत खुश था क्योंकि आज उसका वार्षिक परीक्षा परिणाम निकल चुका था वह अपनी कक्षा में प्रथम आया था। उसके मम्मी पापा एक मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखते थे उन्होंने उससे वादा किया था कि अगर तुम इस बार अपनी कक्षा में अच्छे अंक लेकर उत्तीर्ण हो गए… Continue reading समझदार दोस्त

Posted in Uncategorized

लालची किसान

एक किसान था वह खूब मेहनत करता और अपनी फसलों को लहलाता देख कर खुशी से फूला नहीं समाता था ।वह रोज सुबह जल्दी उठता और शाम तक काम करता और अपनी हरी-भरी फसलों को देखकर खुश होता ।उसकी पत्नी घर का काम करती थी चाहे वर्षा हो गया आंधी तूफान आए अपने खेतों में… Continue reading लालची किसान

Posted in Uncategorized

समझदार दोस्त

विकी जैसे ही घर आया वह बहुत खुश था क्योंकि आज उसका वार्षिक परीक्षा परिणाम निकल चुका था वह अपनी कक्षा में प्रथम आया था। उसके मम्मी पापा एक मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखते थे उन्होंने उससे वादा किया था कि अगर तुम इस बार अपनी कक्षा में अच्छे अंक लेकर उत्तीर्ण हो गए… Continue reading समझदार दोस्त

Posted in Uncategorized