अमूल्य उपहार

शेरू कुछ दिनों के लिए शहर से अपनी मालकिन के साथ गांव आया था। वहां पर उसकी मुलाकात एक गांव में रहने वाले कुते वीरू के साथ हो गई। वह अपनी पूंछ हिला हिला कर अपनी मालकिन को चकमा देकर चुपचाप अपने दोस्त वीरू के साथ खेलने खेलने चला जाता। बड़ी-बड़ी आंखें भूरी आंखों वाला… Continue reading अमूल्य उपहार

Posted in Uncategorized

जैसी करनी वैसी भरनी

किसी गांव में एक ठग और एक चोर रहता था। चोर का नाम था रूपदास और ठग का नाम था धर्मदास। एक बार उस ठग नें चोर को देख लिया। ठग सोचने लगा कि क्या ही अच्छा होता वह चोरी कर के लाए और मैं इससे सब कुछ ठग लिया करूं? उसको हर रोज चोरी… Continue reading जैसी करनी वैसी भरनी

Posted in Uncategorized

कौवी की सूझबूझ

एक नदी के किनारे पर बहुत दूर से एक संपेरा सांप पकड़ने आया हुआ था। उस संपेरे नें तालाब पर खाना खाया पानी पिया। उसे वहां पर तभी एक सांप आता दिखाई दिया। उसने सांप को पकड़ने के लिए जैसे ही वह उछला पानी के दलदल में वह नीचे गिर गया। उस ने सांप को… Continue reading कौवी की सूझबूझ

Posted in Uncategorized

सच्चा न्याय

बहुत पुरानी बात है कि एक छोटे से राज्य में एक राजा रहता था। वह राजा बहुत ही निर्दयी था। वह अपनी प्रजा को बहुत ही तंग करता था। लोग उसकी बात नहीं मानते थे तो वह अपनी प्रजा के लोगों के साथ बूरा बर्ताव करता था। राजा का एक मंत्री था। मंत्री भी उसी… Continue reading सच्चा न्याय

Posted in Uncategorized

संस्कार

मान्या 12वीं कक्षा की छात्रा थी। वह दौड़ते दौड़ते अपने पापा के पास आकर बोली पापा पापा। उसके पापा उसे हैरान होकर देख रहे थे। वह बोली पापा मैं आपसे कुछ कहना चाहती हूं। वह बोले बेटी बोलो। क्या कहना चाहती हो? , वह बोली पापा हमारे पास सब कुछ है। मैं चाहती हूं आप… Continue reading संस्कार

Posted in Uncategorized

तीन जासूस

आरुषि अर्चना और अभि तीनों पक्के दोस्त थे उनकी दोस्ती इतनी मशहूर थी कि वह अपने कस्बे में भी अपनी जासूसी के कारण अलग ही पहचाने जाते थे। उनके कस्बे में आए दिन किसी ना किसी बच्चे को मारा जाना या बच्चों के नर कंकाल मिलना तो एक आम बात थी। पुलिस कभी पता नहीं… Continue reading तीन जासूस

Posted in Uncategorized

हमशक्ल

चीनू को उसकी मम्मी ने हॉस्टल में दाखिल करवा दिया था क्योंकि वह घर में ज्यादा पढ़ाई में ध्यान नहीं दे पाती थी। उसकी मम्मी ने इसलिए दाखिल करवाया था ताकि वह अपना पूरा ध्यान अपनी पढ़ाई में केंद्रित करें। घर पर उसे पढ़ाना मुश्किल था। वह आगे हॉस्टल से कोचिंग भी ले रही थी।… Continue reading हमशक्ल

Posted in Uncategorized

कौवे और लोमड़ी की सूझबूझ

एक पेड़ की डाल पर पर बहुत से कौवे हुए रहते थे। उस पर पर उनके छोटे-छोटे बच्चे भी रहते थे। पास ही वृक्ष की खोल में बहुत सारे कबूतर भी रहते थे। कौवे हर रोज अपने बच्चों के लिए दाना रखकर जाते थे। उन को दाना रखते हुए एक लोमड़ी देखा करती थी। वह… Continue reading कौवे और लोमड़ी की सूझबूझ

Posted in Uncategorized

परिवर्तन भाग2

सविता और शशांक के परिवार में दो प्यारे प्यारे छोटे बच्चे मिष्टी और मयंक। एक दिन मिष्टि और मयंक दोनों भाई बहन दौड़ते-दौड़ते स्कूल से आए। आते ही मयंक नें अपना बस्ता कमरे में फेंका और चुपचाप दौड कर मां के गले लग कर बोला मां जल्दी खाना दो। भूख लगी है। मां उसको लाड… Continue reading परिवर्तन भाग2

Posted in Uncategorized

समझी

समझी के पति का तबादला आसाम के एक छोटे से क्षेत्र में हुआ था। वह अपनी पत्नी के साथ कुछ दिन अपने घर छुट्टी बिताने आया था। उनकी नई-नई शादी हुई थी। उसके पति ने अपनी पत्नी को समझाया कि तुम्हें यहां पर रहने के लिए कोई परेशानी नहीं होगी। तुम अकेली भी बड़े अच्छे… Continue reading समझी

Posted in Uncategorized