दो सहेलियाँ

दिव्यांशु और दीप्ति दोनों घनिष्ट सहेलियाँ  थी। दोनों ही पढ़ने में बहुत ही तेज थी। दीप्ति जो कुछ भी स्कूल में मैडम पढ़ाती उसको बहुत ही ध्यान से सुनती थी। हर पाठ को हर मुश्किल प्रश्नों को अपने समझ और सूझबूझ से याद कर लेती थी। दिव्यांशु भी पढ़ने में तेज थी मगर वह पढ़ाई… Continue reading दो सहेलियाँ

Posted in Uncategorized

मोबाईल का हेरफेर

तीन दोस्त थे सनी हनी और बनी। तीनों दोस्तों में पक्की मित्रता थी। सुबह के समय इकट्ठे सैर पर निकल जाया करते थे। एक दिन वे तीनो जब आराम करने के लिए एक पार्क में बैठे तो तीनों आपस में बातें करने लगे। सनी बोला मैं हर रोज गाने गाता हूं। गाने लिखने का अभ्यास… Continue reading मोबाईल का हेरफेर

Posted in Uncategorized

भाई की सीख

एक छोटा सा गांव था।वंहा पर लगभग ३000 के करीब लोग रहते थे।उस गांव मे  सुखवीर और तनवीर दो महिलाएं थी ।वह दोनों एक साथ वाले घर में रहती थी। यह दोनों महिलाएं आपस में लडती इतना  कि उनके  जोर जोर से एक दूसरे पर चिल्लाने की वजह से इधर उधर सारे मोहल्ले के लोग… Continue reading भाई की सीख

Posted in Uncategorized

साहसी देवकी

माधवपुर गांव में देवकी अपने पति के साथ हंसी-खुशी जीवन यापन कर रही थी।। उसके पति के व्यापार में दिन रात चौगुनी उन्नति हो रह थी। उसका पति एक मेहनती और ईमानदार व्यापारी था। बाहर के लोग भी उसकी बहुत ही प्रशंसा कर रहे थे। विदेशों में भी उसके सामान की प्रशंसा हो रही थी।… Continue reading साहसी देवकी

Posted in Uncategorized