हिमाचल प्रदेश

पहाड़ों कि गोद में बसा हिमाचल प्रदेश मनभावन, मनमोहक और निराला। इस पावन मरु भूमि में जन्म लेने का अति सौभाग्य हमारा।। यहां का बच्चा,बूढ़ा और नवयुवक है भोलाभाला। प्रकृति के अनूठे ,पर्वतो , झरनों और मनोहर दृश्यों का लुत्फ उठानें वाला।। ऋषि मुनियों कि तपस्थली भी कहलाता। देव भूमि का इलाका सभी को बहुत… Continue reading हिमाचल प्रदेश

रानी कम्प्यूटर और माऊस

रानी ने कम्प्यूटर चलाने के लिए पावर का बटन दबाया।बटन क्लिक कर के अपने दोस्तों को दिखलाया।।बार बार कोशिश करने पर भी सफल न हो पाई।अपने दोस्तों के सामने विफल हो कर पछताई।। रानी माऊस को उल्ट पुल्ट कर घुमाने लगी।उस पर अपनी भड़ास निकाल कर झल्लानें लगी।। हार कर बोली तुम मुझ से क्यों… Continue reading रानी कम्प्यूटर और माऊस

क्षमादान

राजू एक बहुत ही शरारती बच्चा था। वह हमेशा शरारती करने में माहिर था कहीं भी कुछ भी देखता वहां पर तोड़फोड़ करना उसकी आदत बन गया था। रास्ते में चलते हुए कभी पक्षियों पर पत्थर फेंकता, कभी रास्ते में से जो भी ग्रामीण गुजरता या औरतें चलती हुई नजर आती उनकी मटकी फोड़ देता… Continue reading क्षमादान

होनहार रामू

बहुत समय पहले की बात है कि एक जुलाहा था। वह अपनी पत्नी और बच्चे के साथ खुशी-खुशी समय व्यतीत कर रहा था। जुलाहा सूत कात कात कर अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर रहा था। एक दिन जुलाहे का हाथ सूत कातने वाली मशीन में फंस गया। डॉक्टरों ने कहा कि उसके… Continue reading होनहार रामू

“दूध का दूध पानी का पानी”

राम प्रसाद नें अपनी तीनों बेटियों की शादी की एक ही शहर में की थी ताकि तीनों वक्त पड़ने पर एक दूसरे के काम आ सके ।उनके पिता नें मरते वक्त अपनी बेटीयों को शिक्षा दी थी कि हर हाल में एक दूसरे की सहायता करनी है। वह अपनी बच्चीयों को खुश देख कर बहुत… Continue reading “दूध का दूध पानी का पानी”

शिक्षा का महत्व भाग 3

ज्ञान तो है अनमोल खजाना। उपलब्धियों का भंडार  सुहाना।। ज्ञान से बढ़ कर नहीं  कोई सानी। इसकि  कीमत  न किस नें जानी।। ज्ञान तो  है अनमोल। इसकी कीमत बेजोड़।। हीरे मोती से ज्यादा कीमती है ज्ञान। इसको अर्जित कर व्यक्ति बनता है महान।। विद्या है व्यक्ति का सर्वश्रेष्ठ सम्मान। चोर भी चुरा कर नहीं कर… Continue reading शिक्षा का महत्व भाग 3

स्वास्थ्य का मूल आधार

सादा जीवन ,सादा भोजन ,उच्च विचार यही तो है मनुष्य की श्रेष्ठता का आधार । यही कहावत व्यक्ति के  स्वास्थ्य जीवन  जीने का "मूल   यथार्थ"। धन गया,कुछ नहीं गया, चरित्र गया कुछ गया। यदि स्वास्थ्य गया तो सब कुछ गया।। तंदुरुस्ती हजार नियामत। यही तो है जीवन को रखता है सलामत।।  पृथ्वी,जल,अग्नि, वायु और… Continue reading स्वास्थ्य का मूल आधार

अंधविश्वास

एक छोटे से गांव में पारो और उसका पति नत्थू रहता था। उनके एक बेटी थी रानी ।रानी को उसके माता पिता बहुत ही प्यार करते थे। वे उसे पढ़ाना चाहते थे ताकि वह पढ़ लिखकर अपने पैरों पर खड़ा हो सके लेकिन रानी इतने लाड प्यार में पली थी कि वह बात बात पर… Continue reading अंधविश्वास

नया जन्म

रुपाली एक मध्यमवर्गीय मां बाप की बेटी थी। उसने अपनें माता पिता की इच्छा के विरुद्ध अपनें ही कौलिज के एक लड़के को अपना योग्य वर चुना। उसके माता-पिता इस शादी के बहुत खिलाफ थे। इसलिए नहीं कि वह उनकी बिरादरी का नहीं था बल्कि इसलिए क्योंकि उन्हें उस लड़के का चाल चलन और स्वभाव… Continue reading नया जन्म

पिकनिक का भरपूर आनन्द

रजत और रिन्की अपने पापा से पिकनिक पर जाने की कितने दिनों से फरमाइश कर रहे थे? उनके माता-पिता अपने बच्चों की फरमाइश को आगे से आगे टालते जा रहे थे। दोनों बच्चे अपने माता-पिता से गुस्सा थे उसके मम्मी पापा ने उन दोनों को समझाया बेटा पिकनिक पर जाना कोई मामूली काम नहीं होता।… Continue reading पिकनिक का भरपूर आनन्द