मेहनती मनु

अगर इंसान में कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो वह बड़े से बड़ा संघर्ष करके ऊंचाइयों के शिखर पर आसानी से पहुंच सकता है। इसके लिए उसमें सच्ची लगन मेहनत और दृढ़ संकल्प की जरूरत होती है, चाहे उसे कैसे भी परिस्थितियों से गुजर ना पड़े । अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए… Continue reading मेहनती मनु

Posted in Uncategorized

धरती का लाल

चीकू रास्ते में जल्दी-जल्दी अपने कदम बढ़ा रहा था। उसका मालिक जब वह समय पर काम पर नहीं पहुंचता था उसको कहता था तब तक तुम्हें खाना नहीं मिलेगा जब तक तुम काम नहीं करोगे। चीकू 12 वर्ष का था रास्ते में फुटपाथ पर उसके मालिक को पड़ा मिला था। मुश्किल में उस समय चीकू… Continue reading धरती का लाल

Posted in Uncategorized

विचित्र न्याय

किसी शहर में दो दोस्त रहते थ दोनों घनिष्ट मित्र थे  ।एक का नाम था राम दूसरे का नाम था श्याम ।दोनों एक दूसरे की सहायता करने के लिए हमेशा तैयार रहते थे । राम एक राजा के यहां पर माली का काम करता था जो कुछ मिलता था उसे अपना और अपनी पत्नी का… Continue reading विचित्र न्याय

Posted in Uncategorized

भेडू के बच्चे की वापसी

जंगल में सभी जानवर एक ही स्कूल में शिक्षा ग्रहण करते थे। सभी जानवर दूर-दूर के जंगलों से आकर हॉस्टल में पढ़ने आए थे। वहां पर सब जीवजन्तु मिल जुल कर रहते थे कोई भी जानवर किसी को नुकसान नहीं पहुंचा सकता था। स्कूल के हैडमास्टर  जी ने उन्हें सख्त हिदायत दी थी कि कोई… Continue reading भेडू के बच्चे की वापसी

Posted in Uncategorized

कविता मौसी

कविता के नाम से पहचाने जाने वाली महिला इतनी मशहूर नहीं थी। उसको कविता नाम से कोई नहीं पहचानता था जितना कि सारे मोहल्ले के बच्चे उन्हें मौसी के नाम से पुकारते थे। मौसी-मौसी कहकर सारे बच्चे उन्हें घेर लेते। उनसे हर रोज कहानी की फरमाइश करते हुए भी बच्चों को जिस दिन ना देख… Continue reading कविता मौसी

Posted in Uncategorized

दक्षिणा

पीहू एक छोटी सी बस्ती में रहती थी उसकी मां उसे अच्छी शिक्षा नहीं दिलवा सकती थी।  उसकी मां इधर उधर घरों घरों में जाकर बर्तन साफ कर और झाड़ू पोछा लगा कर अपनी आजीविका चला रही थी। पीहू तो मौज मस्ती में सपने देखने में अपना समय व्यतीत कर रही थी। वह हर रोज… Continue reading दक्षिणा

Posted in Uncategorized

ईमानदारी का सबक

किसी गांव में एक व्यापारी रहता था वह शॉल बेचकर अपना तथा अपने परिवार का भरण पोषण करता था। शॉल बेचने के लिए उसको अपने काम से बाहर जाना पड़ता था। ईमानदारी से शॉल बेचता था जो कुछ मिलता उसी से खुश रहता था। एक बार की का बात है कि उसका दोस्त गांव में… Continue reading ईमानदारी का सबक

Posted in Uncategorized

नयी उमँग

स्कूल में बच्चे मैडम भारती के आने का इंतजार कर रहे थे। बच्चों को अपनी मैडम भारती बहुत ही अच्छी लगती थी। वह उन्हें बहुत ही प्यार से पढ़ाती थी। हर बच्चे को खेल खेल में पढ़ाना उसका शौक था। इसी कारण उसकी कक्षा में बच्चे पाठ को बड़े ध्यान से सुनते थे ।उसकी कक्षा… Continue reading नयी उमँग

Posted in Uncategorized

अनोखा उपहार या पानी का महत्व

निक्कू आज बेहद खुश था। क्योंकि आज 23 मार्च को उसका जन्मदिन आने वाला था। वह अपने जन्मदिन के उपहार का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहा था। आज उसके मम्मी पापा ने देखा उनका बेटा खुश नजर नहीं आ रहा था इससे पहले कि वह उनसे कुछ कहे  वही बोल पड़े बेटा क्या बात… Continue reading अनोखा उपहार या पानी का महत्व

Posted in Uncategorized

नई दिशा

हेम शरन के परिवार में उसकी पत्नी और उसकी एक बेटा बेटी थे। हेमशरन इतना अमीर नहीं था गांव में उसकी थोड़ी बहुत जमीन थी। जिस में वह खेती-बाड़ी करता था। उसकी बेटी नौ साल की थी और  बेटा बीनू से चार साल बड़ा था। उसका भाई आठवी कक्षा में था। हेमशरन अपनी पत्नी से… Continue reading नई दिशा

Posted in Uncategorized