हेराफेरी

नीमों हर रोज की तरह   रसोईघर में खाना बनाने में व्यस्त थी। उसके भाई धनीराम एक बहुत ही बड़े व्यापारी थे। उनके पास सब कुछ था।  गाड़ी  और बंगला था। जिंदगी की सभी खुशियाँ थी। धनीराम ने आवाज दी बहना कहां हो? जल्दी आओ मुझे बड़ी जोर की भूख लग रही है। खाना    लाओ।वह रसोईघर… Continue reading हेराफेरी

पानी की किमत

पिंकी राजू बाबू पूनम  और रवि सारे के सारे इकट्ठा स्कूल से घर आते और मौज मस्ती करते उनका स्कूल उनके गांव से 6 किलोमीटर की दूरी पर था। उन के गांव में आसपास कोई-स्कूल नहीं था। शिक्षा प्राप्त करनें के लिए उन्हें  पैदल ही स्कूल जाना पड़ता था। गर्मियों के दिन थे। गांव के… Continue reading पानी की किमत

सुख और दुःख की अनुभूति

पल्लवी के परिवार में उसका बेटा रामू। रामू को आवाज लगाई बेटा यहां आना। वह चिल्लाकर बोला मां क्या है? खेलने भी नहीं देती हो। नन्हा सा रामू वह अपनी मम्मी को इतना तंग करता था। लॉड प्यार ने उसे इतना बिगाड़ दिया था जब वह खाने को देती वह कहता नहीं मुझे चिप्स खाने… Continue reading सुख और दुःख की अनुभूति

प्यारा दोस्त बांकू

जंगल के सारे जानवरों ने मिलकर सभा बुलाई उन्होंने मिलकर मशवरा लिया कि हम सब जानवर मिलकर एक टूर्नामेंट का आयोजन करेंगे। टूर्नामेंट में जो भी जीतेगा उसको हम ₹50, 000 देंगे। सब के सब जानवरों के नामों की लिस्ट इतवार से बहुत पहले पहुंच जानी चाहिए। शेर को राजा बनाया गया। शेरनी को रानी।… Continue reading प्यारा दोस्त बांकू

(चीकू और मीकू की दोस्ती)

किसी जंगल में एक शेर और शेरनी रहते थे। वे दोनों पति-पत्नी शिकार करने जाते और जो कुछ मिलता वह अपने बच्चों के साथ मिल बांट कर खाते थे। एक दिन शेर शेरनी दोनों जंगल में शिकार करने निकले वहां पर उन्होंने आगे  तेज तेज भागते हुए हाथी के बच्चे को देखा। वे उसे देखकर… Continue reading (चीकू और मीकू की दोस्ती)

जैसे को तैसा

किसी गांव में दो दोस्त रहते थे। दोनों पक्के दोस्त थे। उन दोनों के प्यार को किसी की नजर लग गई। वे दोनों एक दूसरे के दोस्त नहीं रहे। एक दिन ना जाने  किसी बात को लेकर उन दोनों में झगड़ा हो गया। दोनों एक दूसरे से मिलते भी नहीं थे। दूसरे दोस्त ने सोचा… Continue reading जैसे को तैसा

बाग का भूत

एक छोटा सा गांव था। उस गांव की आबादी 1000के करीब थी। उस गांव में पांच दोस्तों की मण्डली थी।चारु, बिटू,पप्पू, मीकू, चिन्टू  वे सब आपस में सब मिलजुल कर एक साथ जहां जाते इकट्ठा जाते। उन में से  किसान का बेटा था चारु और गांव के जमीदार का बेटा था मीकू। बाकि दोस्त भी… Continue reading बाग का भूत

बहन का प्यार

आनंद और आरुषि के परिवार में उनके दो बेटे और एक बेटी थी। आनंद ऑफिस में क्लर्क था।  आरुषि स्कूल में शिक्षिका थी। हर रोज की तरह आनंद ऑफिस से जब घर आ रहा था उसके सीने में जोर से दर्द उठा उसने तुरंत अपनी पत्नी को फोन किया उसकी पत्नी भागी भागी अपने पति… Continue reading बहन का प्यार

गुमराह(1)

नूपुर और रिमझिम के माता पिता का तबादला एक छोटे से कस्बे में हुआ था। दोनों ही बहुत ही नटखट थीं। अपने माता पिता की नाक में दम कर रखती थी। इसका कारण था दादी का भरपूर स्नेह। दादी के भरपूर स्नेह देने के कारण नूपुर और रिमझिम घर में किसी को भी कुछ नहीं… Continue reading गुमराह(1)

गुमराह भाग(2)

दिव्यांश अपने माता पिता के साथ एक छोटे  से कस्बे में रहता था। उसके माता पिता के पास गाड़ी थी बंगला था और जिंदगी की सभी ठाट बाट थे जो कि एक धनाढ्य व्यक्ति के पास होते हैं। इतना सब कुछ होते हुए भी दिव्यांश के माता पिता अपने बेटे की आदतों से परेशान थे।… Continue reading गुमराह भाग(2)