दावानल

शेखर और उसकी पत्नी एक छोटे से गांव में रहते थे। शेखरको शराब पीने की आदत थी वह शराब को छोड़ता नहीं था। उसकी पत्नी अपने पति की इस आदत से बहुत परेशान रहती थी। वह सोचती काश मेरा पति शराब पीना छोड़ देता तो वह भी अच्छा इंसान बन सकता है। दिल का अच्छा… Continue reading दावानल

आत्मविश्वास

सीता और गीता स्कूल में इकट्ठे शिक्षा ग्रहण कर रही थी। सीता के माता पिता  ऑफिस में काम करते थे। सीता एक मेहनती लड़की थी। एक दिन उसके माता-पिता ने उसे अपने पास बुलाया और कहा बेटा हम चाहते हैं कि तुम हमें बताओ कि तुम आगे चलकर क्या बनना चाहती हो? वह बोली मां… Continue reading आत्मविश्वास

रहस्यमयी गुफा

एक लड़का था भोलू वह हमेशा शरारते किया करता था। वह अपने दोस्तों के साथ जंगल में गायों को चराने ले जाता था। काफी देर तक पशुओं को  चरा कर जब   घर को वापिस आता था उसके दोस्त हमेशा उससे शर्त लगाते थे कि जो कोई जंगल की गुफा में जाकर वापस आ जाएगा वही… Continue reading रहस्यमयी गुफा

जीत का सेहरा

आओ सब मिलकर जीत का जश्न मनाए। प्रधानमंत्री मोदी जी को बधाई देकर फिर से एक बार कोशिश में जुट जाएं।। जनता की मेहनत रंग लाई है। एक बार फिर से नरेंद्र मोदी जी को सत्ता में ले आई है।। मोदी लहर देश के सभी नागरिकों को खुशी दिला पाई है। उनकी उम्मीदों की कसौटी… Continue reading जीत का सेहरा

हिम्मत

कुणाल का तबादला चंडीगढ़ हो गया था। उनके घर में उनकी पत्नी कंचन और उसके दो बच्चे थे। उनकी बड़ी बेटी संपदा  ग्यारहवीं कर चुकी थी और बेटा शेखू दसवीं में था। उसके माता-पिता अपने दोनों बच्चों को बहुत प्यार करते थे। कुणाल नें  अपने दोनों बच्चों की परवरिश में कोई कमी नहीं रखी। कुणाल… Continue reading हिम्मत

झूठा इल्जाम

नंदिता घर आते ही अपने पिता के पास भाभी भागी आई। पापा आज आप मेरी पिटाई तो नहीं करोगे। उसकी मां कमरे में नंदिता के   समीप आई और बोली क्यों रो रही है? वह रोते रोते बोली  स्कूल में आज  दोस्तों नें मेरी पैन्सिल चोरी कर दी। उसके पापा बोले गुम कर दी तो मैं… Continue reading झूठा इल्जाम

नन्हीं परी

एक छोटे से कस्बे में हीरालाल अपनी पत्नी रेशमा के साथ रहा करता था। हीरालाल की अपनी एक छोटी सी दुकान थी जिसमें वह काम किया करता था। घर के कामकाज में कभी अपनी पत्नी का हाथ नहीं बटांता था उसकी पत्नी रेशमा भी अपने पति से चिड़ी चिड़ी रहा करती थी। वह भी प्राइवेट… Continue reading नन्हीं परी

स्वच्छता का संकल्प भाग(1)

मेरे प्यारे बच्चों तुम इधर तो आओ। आने में तुम यूं ना देर लगाओ। नाना-नानी चाचा-चाची ताया ताई, सभी को बुलाओ सभी को बुलाओ। आने में यूं ना तुम देर लगाओ। अपनें वातावरण को साफ रखनें का तुम्हे देते हैं आज यह मूल मंत्र। यही है तुम्हारे जीवन का तंत्र। इसको तुम सभी अपने जीवन… Continue reading स्वच्छता का संकल्प भाग(1)

पेड़ हमारे जीवन दाता

पेड़ हमारे जीवन दाता। हमारा इनसे सदियों का नाता। यह है हमारे जीवन का आधार। इनके बिना जिंदगी है निराधार। पेड़ है धरती की जान। इसकी हिफाजत करना है हमारी शान। पेड़ों को काटना है पाप। नहीं तो जिंदगी भर भुगतना पड़ेगा श्राप। पेड़ लगाओ पेड़ लगाओ।पेड़ लगा कर इस पावन धरा को और भी… Continue reading पेड़ हमारे जीवन दाता

स्वच्छता का संदेश

 (स्वच्छता का संदेश) भाग(2) “ आओ हम सब मधुर स्वर में एक साथ गुनगुनाएं। मिलकर हम सब अपने पर्यावरण को स्वच्छ बनाएं।। ,, 1()धातु, शीशा, गता कागज प्लास्टिक पॉलिथीन नायलॉन कूड़ा करकट  इधर-उधर नहीं फैलाएं। (2 )अनुपयोगी सामान को कबाड़ी को बेच कर आएं।। (3) हम कूड़े कचरे को जलाएं। (4)साग सब्जी और फलों के… Continue reading स्वच्छता का संदेश