प्रार्थना

 तेरे पूजन को भगवान मन को बनाएं आलीशान। तुम्हारा हर पल करें  हम ध्यान। भक्तों का तुम करते कल्याण।। तेरी छवि अति महान। मनमोहक अति सुन्दर राम।। तेरे पूजन को भगवान मन को बनाएं आलीशान।। तू ही अन्दर , तू ही भीतर तू ही सब का प्यारा हितकर।। तू ही सर्वत्र विद्यमान। तेरी लीला अति… Continue reading प्रार्थना

चौपाईयां

राम कथा जीवन आधारा। सुमरित श्रवण कर जग से तारा।। राम सिया राम ,सिया राम जै जै राम। सुखी वहीं जो राम गुण गाएं। प्रभु प्रसाद वहीं जन पाएं।। राम सिया राम सिया राम जै जै राम।। राम सिया राम, सिया राम , जै जै राम।। भृकुटि विशाल,नयन चकोरा। चारू कपोल,चंचल चितचोरा।। राम सिया राम,सिया… Continue reading चौपाईयां

प्रार्थना

सुबह सवेरे ले कर तेरा नाम प्रभु।करते हैं शुरुआत आज का काम प्रभु।।पढ़ाई में हमेशा ध्यान लगाएं हम।मेहनत से ही अच्छे अंक पाएं हम।मेहनत से ही अच्छे अंक पाएं हम।।सुबह सवेरे ले कर तेरा नाम प्रभु।करते हैं शुरुआत आज का काम प्रभु ।।कक्षा में कभी जी न चुराएं‌ हम।सच्चाई को ही हमेशा अपनाएं हम।सच्चाई को… Continue reading प्रार्थना

होली के रंग

          होली के रंग 11/3/22            आओ बच्चों  एक साथ   होली मनाएं। एक साथ मिल बांट कर गुलाल लगाएं ।। होली के रंग में रंग कर ,सभी को लुभाएं। अपनों के संग गुझिया और मिठाई मिल-बांट कर खाएं ।। मां,दादी,नानी के जायकेदार पकवानों को खा कर खुब लुत्फ उठाएं। दोस्तों, रिश्तेदारों के संग खुशियां मना… Continue reading होली के रंग

घूमने निकली मैं

निकली मैं शाम को बाग में, मैं शाम को बाग में घुमनें निकली।।चमक रही थी सूरज कि किरणें।सूरज कि किरणें थी चमक रही।।हंसी एकाएक जोर से।जोर से यकायक हंसी।मुझे गिलहरी एक दिखी, बाग के एक ओर।बाग के एक ओर एक गिलहरी दिखीथी बैठी तार का सहारा ले कर।तार का सहारा ले कर थी बैठी।हंसी यकायक… Continue reading घूमने निकली मैं

क्षमा याचना

राजन एक ट्रक ड्राइवर था।उस का तबादला दूसरे कस्बे में हुआ था।रोबीला चेहरा,काफी लम्बा चौड़ा बड़ी बड़ी मूंछों वाला।तीखे नयन नक्स। ट्रक चलानें में माहिर था। उसको कस्बे में आए हुए छ सात महीनें हो चुके थे।काफी ज्यादा संख्या में लोग उससे परिचित हो चुके थे।छोटा सा पहाड़ी इलाका था।वह जंहा भी बैठ जाता लोग… Continue reading क्षमा याचना

नन्हीं चिड़िया की पुकार

नन्ही चिड़िया मां से बोली।मैं हूं तेरी प्यारी भोली।।जल्दी से दाना देखकर मेरी भूख मिटाओ न।कहानी सुनाकर मेरा दिल बहलाओ न।।मां बोली ना कर शैतानी।हर दम करती रहती मनमानी।।नन्ही चिड़िया बोली अभी खेलने जाना है।नन्ही चिड़ियों संग खेल खूब धमाल मचाना है।।मां चिड़िया बोली तेरी एक नहीं चलेगी।तू भी आज मेरे संग दाना चुगने चलेगी।।भोली… Continue reading नन्हीं चिड़िया की पुकार

मेरी लाड़ली बहना

 सुन्दरता की पहचान हो। भोली सूरत और ममता की खान हो ।। करुणा,दया और ममता कि साक्षात मिसाल हो। चिन्तनशीलता और गुणों की बेमिसाल हो ।। सोच समझ से हर काम को करती हो । अपनों से दिलोजान से मोहब्बत करती हो।। आप से बढ़ कर कोई नहीं है सानी।। आप तो सभी से हो… Continue reading मेरी लाड़ली बहना

चंदा मामा भाग-२

प्यारे प्यारे चंदा मामा।न्यारे न्यारे चंदा मामा।तुम हो सब के राजदुलारे मामा।मां कहती हैं तुम अपनी किरणों की प्रखरता से सारे जग को चमकाते हो। किरणों की चकाचौंध से सभी के मनों को लुभाते हो।।कभी गोल-मटोल बन कर दिखाते हो।कभी तिरछी कलाओं का जाल दिखाते हो।कभी आधी, कभी पुरी आकृति बनाते हो। आमावस की रात… Continue reading चंदा मामा भाग-२

परमार्थ

मिट्टी का माधो बनकर तू एक दिन रह जाएगा।  बुराइयों के दलदल में पड़ कर बचाखुचा समय यूं व्यर्थ गंवाएगा।। मानव जीवन है अनमोल।  सच्चाई से बढ़कर नहीं है इसका तोल।।  झूठ के बल पर तू कब तक मुकाम हासिल कर पाएगा?।  जिंदगी में सदा अकेला होकर फिर तू पछताएगा ।  जीवन में जिन को… Continue reading परमार्थ