दक्षिणा

पीहू एक छोटी सी बस्ती में रहती थी उसकी मां उसे अच्छी शिक्षा नहीं दिलवा सकती थी वह इधर उधर घरों घरों में जाकर बर्तन साफ कर और झाड़ू पोछा लगा कर अपनी आजीविका चलारही थी। पीहू तो मौज मस्ती में सपने देखने में अपना समय व्यतीत कर रही थी वह हर रोज नए नए… Continue reading दक्षिणा

Posted in Uncategorized

चिड़िया

पेड़ों पर चहचहाती चिड़ियां। शाखाओं पर मंडराती चिड़िया।। अपनी चहचाहट से सबके मन को लुभाती चिड़िया। एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर अटखेलियां  करती चिड़िया।। अपने मधुर संगीत से सबके मन को हर्षाती चिड़िया एक डाल से दूसरी डाल तक की यूं फुदकती जाती चिड़िया।।   सुबह से दोपहर तक एक पंक्ति में इकट्ठे होकर… Continue reading चिड़िया

Posted in Uncategorized

सूरज

सूरज की किरणों से जगमगाता है घर का हर कोना। तन को  ताजगी प्रदान करता है इसका रुप सिलौना। खेतों में हरियाली लाता है सूरज। अपनी हरियाली से चारों ओर खुशियां ही खुशियां लाता है सूरज। सुनहरी धूप से पौधों में जान डाल  देता है सूरज। नन्हे पौधों को विकसित करके।। पूर्व से निकलता है… Continue reading सूरज

Posted in Uncategorized

असली विजेता

स्कूल में पारितोषिक वितरण का आयोजन होने जा रहा था सभी बच्चों को भाषण तैयार करने के लिए कहा गया सभी बच्चे हफ्ते पहले से ही भाषण तैयार करने की भरपूर कोशिश कर रहे थे मैडम ने कहा था कि उसे ही पुरस्कार मिलेगा जो सबसे अच्छा भाषण देगा भाषण के लिए भी 5 मिनट… Continue reading असली विजेता

Posted in Uncategorized

सफलता

करो खुद को बुलंद इतना कि हर कदम पर सफलता प्राप्त कर सको। हर दिशा में उंचाइयों की सीढ़ियां चढ़ते चलो। हर काम को करने की मन में ठान लो। किसी भी काम  को दृढ निश्चय से करनें की  जान लो। सफलता को तलाशने निकले हो तो देरी ना करो। विफल हो जानें पर भी… Continue reading सफलता

Posted in Uncategorized

समय की कीमत

समय की कीमत को पहचानो। समय पर ही सब काम करनें की ठानों। समय पर जागो, समय पर खाओ समय पर पाठशाला जाओ। समय पर ही हर काम करने की प्रेरणा अपनें मन में जगाओ।। समय के महत्व को पहचानो,और समय सारणी के अनुसार काम कर के अपने नियमों का पालन करनें की योजना अपने… Continue reading समय की कीमत

Posted in Uncategorized

बेटा

, विधाता का रचा एक खिलौना। तुझको पाकर मेरा जीवन हुआ सलोना।। चंदा भी तू सूरज भी तू। मेरे डूबते नैया की पतवार भी तू।।   उंगली पकड़कर चलना सिखाती हूं मैं। लोरी गा गा के पलना झूलाती हूं मैं।।। कान पकड़ के रास्ते पर चलना सिखाती हूं मैं। कभी डांट से कभी फटकार से।… Continue reading बेटा

Posted in Uncategorized

उड़ान

छवि आज बहुत ही खुश थी। जिस सम्मान को पाने के लिए वह इतनी मेहनत इतना बड़ा संघर्ष करके इस मुकाम तक पहुंची आज अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रही थी। उसके सामने प्रेस के रिपोर्टर और बड़े-बड़े नेता उसके कड़े संघर्ष की कहानी सुनने के लिए उत्सुक थे। उसे आज उसी के एक छोटे… Continue reading उड़ान

Posted in Uncategorized

वाटिका मेरा स्कूल

रमेश के परिवार में उनका एक बेटा था श्याम। बहुत ही चंचल स्वभाव का था पढ़ाई तो जरा भी नहीं करता था।  उसके पापा जब उसे कहते पढ़ाई करो, पढ़ाई के नाम पर बहुत ही डरता था। जब कभी उसकी मम्मी अपनी सहेली के साथ बड़े से लौन में बैठकर अपनी सहेलियों के साथ गप्पे… Continue reading वाटिका मेरा स्कूल

Posted in Uncategorized

श्री अटल बिहारी वाजपेयी के प्रति श्रद्धांजलि

देश में में ना होगा लाल ऐसा। पूर्व प्रधानमंत्री अटल जैसा।। भारत की बलिवेदी पर तिरंगा यूं ही  लहराता रहे।। सर्वस्व अपना लुटाने की खातिर सदा उनके गीत गाता रहे। नतमस्तक होकर आज उन्हें हम सलाम करते हैं। उनके प्रति सच्ची श्रद्धा सुमन अर्पित कर। उन्हें अश्रुपूर्ण आंखों से विदा करते है। दिल से है… Continue reading श्री अटल बिहारी वाजपेयी के प्रति श्रद्धांजलि

Posted in Uncategorized