बहु

बहू को बेटी की नजर से देखो अरे दुनिया वालो।   बहु में अपनी बेटी को तलाशों दुनिया वालों।। बेटी और बहु में फर्क मत करना। जग में अपनी जग हंसाई मत करना।। जितना प्यार अपनी बेटी को करते हो।   उससे भी वही प्यार करना दोस्तों।। उसको भी वही दुलार देने की कोशिश करना… Continue reading बहु

Posted in Uncategorized

उठो धरा के अमर सपूतों

उठो धरा के अमर सपूतों। जग में अपना नाम करो, नाम करो।।   तन मन धन से एकजुट होकर मिलजुल कर काम करो, काम करो।।   सच्चाई के पथ पर चलकर, अपना और अपने जग का नाम करो, नाम करो।। हिम्मत और अपनें हौसलों को बुलन्द कर पराजय को स्वीकार करो, स्वीकार करो। हार कर… Continue reading उठो धरा के अमर सपूतों

Posted in Uncategorized