चिड़िया

पेड़ों पर चहचहाती चिड़ियां। शाखाओं पर मंडराती चिड़िया।। अपनी चहचाहट से सबके मन को लुभाती चिड़िया। एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर अटखेलियां  करती चिड़िया।। अपने मधुर संगीत से सबके मन को हर्षाती चिड़िया एक डाल से दूसरी डाल तक की यूं फुदकती जाती चिड़िया।।   सुबह से दोपहर तक एक पंक्ति में इकट्ठे होकर… Continue reading चिड़िया

Posted in Uncategorized

सूरज

सूरज की किरणों से जगमगाता है घर का हर कोना। तन को  ताजगी प्रदान करता है इसका रुप सिलौना। खेतों में हरियाली लाता है सूरज। अपनी हरियाली से चारों ओर खुशियां ही खुशियां लाता है सूरज। सुनहरी धूप से पौधों में जान डाल  देता है सूरज। नन्हे पौधों को विकसित करके।। पूर्व से निकलता है… Continue reading सूरज

Posted in Uncategorized