बदला

एक किसान था उसकी पत्नी और एक बेटा था। वह अपनी पत्नी और बच्चे को हमेशा खुश रखता था। वह दिन रात खेत में मेहनत करके कमा कर लाता था। उससे उसकी आजीविका चल रही थी खेत में खुदाई कर रहा था तो उसने देखा खुदाई करते करते एक सांप उस की चपेट में आ… Continue reading बदला

Posted in Uncategorized

होनहार टफी

रामप्रकाश एक छोटे से कस्बे में रहने के लिए आए थे क्योंकि दिन पहले ही उनका तबादला सोनपुर के एक छोटे से कस्बे में हुआ था । वहां पर एक घर किराए पर लिया हुआ था। उस घर में वह अपनी पत्नी के साथ रहते थे अभी उनकी शादी को दो-तीन महीने ही हुए थे… Continue reading होनहार टफी

Posted in Uncategorized

जीवन दान

रामप्रकाश एक छोटे से कस्बे में रहने के लिए आए थे क्योंकि कुछ दिन पहले ही उनका तबादला सोनपुर के एक छोटे से कस्बे में हुआ था ।उन्होंने वहां पर एक घर किराए पर लिया हुआ था। उस घर में वह अपनी पत्नी के साथ रहते थे अभी उनकी शादी को दो-तीन महीने ही हुए… Continue reading जीवन दान

Posted in Uncategorized

चालाक सलाहकार

पुरानी समय की बात है किसी नगर में एक राजा रहता था।।वह राजा अपनी प्रजा को खुश देखकर बहुत खुश होता था ।उसके राज्य में सभी लोग सुखी थे उस ने अपने पास एक सलाहकार नियुक्त किया था। वह राजा को अच्छी सलाह दिया करता था । वह एक अच्छा सलाहकार नंही था।वहबिना सोचे समझे… Continue reading चालाक सलाहकार

Posted in Uncategorized

सच्चा साथी चंपू

चिंटू बहुत ही प्यारा बच्चा था ।वह हर काम को बड़ी होशियारी से करता था। वह रोज अपने साथियों के साथ स्कूल जाता । शाम को स्कूल से आते वक्त वह अपने दोस्त के साथ खूब बातें करता। उसके साथ खूब मौज मस्ती करता ।उसको खाने को भी ले जाता कभी बिस्कुट, कभी मूंगफली कभी… Continue reading सच्चा साथी चंपू

Posted in Uncategorized

पंडिताइन की सूझबूझ

एक पंडित जी थे ।वह अपने मोहल्ले में पूजा-पाठ के लिए बहुत प्रसिद्ध थे ।उन्हें लोग दूर-दूर से पूजा पाठ के लिए अपने घर ले जाते थे। पंडित भी सभी घरों में पूजा पाठ के लिए जाते थे। जो कुछ मिलता था उसी से वह अपना तथा अपने परिवार का पालन पोषण करते थ।े अब… Continue reading पंडिताइन की सूझबूझ

Posted in Uncategorized

अनमोल हीरा

गिरजा के पिता बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत थे । मम्मी ऑफिस में काम करती थी। गिरजा अपने माता-पिता की इकलौती बेटी थी उन्होंने उसे बहुत ही लाड़-प्यार से पाला था ।वह बहुत ही होनहार थी। उसका एक छोटा भाई भी था वह बहुत ही छोटा था गिरिजा बहुत ही होशियार थी ।वह… Continue reading अनमोल हीरा

Posted in Uncategorized

जान बची तो लाखो पाए

तीन चचेरी बहनें थी ।दो बहने तो मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखती थी परंतु उनमें से एक थोड़ी अमीर थी। तीनों ने अपने मनपसंद लड़के के साथ शादी कर ली ।पहली बहन का पति लक्कड़ हारा था ।वह लकड़ियां बेच कर अपना जीवन चला रहा था ।तीनो बहने साथ साथ घर में ही रहती… Continue reading जान बची तो लाखो पाए

Posted in Uncategorized

मासूम रीया

रीया और प्रिया दो बहने थी ।दोनों ही चंचल प्रवृत्ति की थी। छोटी का नाम रीया और बड़ी का नाम प्रिया था। प्रिया पढ़ने में बहुत होशियार थी मगर ,रिया पढ़ने में इतनी तेज नहीं थी ।।प्रिया हमेशा अपनी कक्षा में प्रथम आती थी ।उसके अध्यापक और उसके माता पिता भी उसे बहुत प्यार करते… Continue reading मासूम रीया

Posted in Uncategorized

होनहार टफी

रामप्रकाश एक छोटे से कस्बे में रहने के लिए आए थे क्योंकि कुछ दिन पहले ही उनका तबादला सोनपुर के एक छोटे से कस्बे में हुआ था ।उन्होंने वहां पर एक घर किराए पर लिया हुआ था। उस घर में वह अपनी पत्नी के साथ रहते थे अभी उनकी शादी को दो-तीन महीने ही हुए… Continue reading होनहार टफी

Posted in Uncategorized