अनमोल हीरा

गिरजा के पिता बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत थे । मम्मी ऑफिस में काम करती थी। गिरजा अपने माता-पिता की इकलौती बेटी थी उन्होंने उसे बहुत ही लाड़-प्यार से पाला था ।वह बहुत ही होनहार थी। उसका एक छोटा भाई भी था वह बहुत ही छोटा था गिरिजा बहुत ही होशियार थी ।वह… Continue reading अनमोल हीरा

Posted in Uncategorized

जान बची तो लाखो पाए

तीन चचेरी बहनें थी ।दो बहने तो मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखती थी परंतु उनमें से एक थोड़ी अमीर थी। तीनों ने अपने मनपसंद लड़के के साथ शादी कर ली ।पहली बहन का पति लक्कड़ हारा था ।वह लकड़ियां बेच कर अपना जीवन चला रहा था ।तीनो बहने साथ साथ घर में ही रहती… Continue reading जान बची तो लाखो पाए

Posted in Uncategorized

मासूम रीया

रीया और प्रिया दो बहने थी ।दोनों ही चंचल प्रवृत्ति की थी। छोटी का नाम रीया और बड़ी का नाम प्रिया था। प्रिया पढ़ने में बहुत होशियार थी मगर ,रिया पढ़ने में इतनी तेज नहीं थी ।।प्रिया हमेशा अपनी कक्षा में प्रथम आती थी ।उसके अध्यापक और उसके माता पिता भी उसे बहुत प्यार करते… Continue reading मासूम रीया

Posted in Uncategorized

होनहार टफी

रामप्रकाश एक छोटे से कस्बे में रहने के लिए आए थे क्योंकि कुछ दिन पहले ही उनका तबादला सोनपुर के एक छोटे से कस्बे में हुआ था ।उन्होंने वहां पर एक घर किराए पर लिया हुआ था। उस घर में वह अपनी पत्नी के साथ रहते थे अभी उनकी शादी को दो-तीन महीने ही हुए… Continue reading होनहार टफी

Posted in Uncategorized