कौवी की सूझबूझ

एक नदी के किनारे पर बहुत दूर से एक संपेरा सांप पकड़ने आया हुआ था। उस संपेरे नें तालाब पर खाना खाया पानी पिया। उसे वहां पर तभी एक सांप आता दिखाई दिया। उसने सांप को पकड़ने के लिए जैसे ही वह उछला पानी के दलदल में वह नीचे गिर गया। उस ने सांप को… Continue reading कौवी की सूझबूझ

Posted in Uncategorized

सच्चा न्याय

बहुत पुरानी बात है कि एक छोटे से राज्य में एक राजा रहता था। वह राजा बहुत ही निर्दयी था। वह अपनी प्रजा को बहुत ही तंग करता था। लोग उसकी बात नहीं मानते थे तो वह अपनी प्रजा के लोगों के साथ बूरा बर्ताव करता था। राजा का एक मंत्री था। मंत्री भी उसी… Continue reading सच्चा न्याय

Posted in Uncategorized