आज़ादी का जय घोष

आओ आज़ादी दिवस का जयघोष मिल कर मनाएं ।

अपनी अपनी दुनिया में न खो कर ,सब एक रस हो  जाएं।

छोटे और बड़े का भेदभाव भूल कर खुशी से जगमगाएं।।

तेरे मेरे कि सोच बाहर फैंक आपस में मैत्री पूर्ण भाव  अपनाएं।।

भाई बहन,साथी,दोस्त,युवा और वृद्ध जन।

कोरोना जैसी बिमारी से छुटकारा पानें का करें प्रयत्न।।

नकाब  में रह कर भी आज़ादी का देखें स्वप्न।

इस बिमारी से मुक्त हो कर हम सभी आज़ाद हो कर मुस्कुराएंगे।

अपनों को खोने के एहसास को न कभी भूल पाएंगे।

आनें वाले कल कि सुन्दर तस्वीर होगी।

कोरोना के भय से मुक्ति पा कर  सभी के चेहरों पर खुशी होगी।

मस्ती में ढोल नगाड़े बजा कर आज़ादी का गीत गुनगुनाएं।

कोरोना जैसी बिमारी से निजात पानें का एहसास सभी में जगाएं।

अस्पतालों में कोरोना से जूझ रहे व्यक्तियों का मनोबल बढ़ाएं।

उन की सहायता कर उन का मनोरंजन कर उन के बुझे चेहरों पर रौनक जगाएं।

सेवाएं दे रहे डाक्टर  और सारे कार्य कर्ताओं के प्रति सम्मान का हाथ बढ़ाएं।

उन को सम्मानित कर कोराना से आज़ादी  पानें का जश्न मनाएं।।

अंहकार को छोड़,हंसी किलकारी का मौहोल बनाएं

 उल्लास पूर्ण वातावरण के भाव जगा कर बेहद सकून से

अव्यवस्थित जीवन शैली से बाहर निकल,कोरोना के डर को दूर भगाएं।।

नई उम्मीदों का दीया जला कर,बुद्धि,चेतना, को जगाए।

संकुचित विचारों को छोड़ छाड़ कर सकारात्मक सोच अपनाएं।

आओ संसार को एकता के बंधन में जोड़ों।

सब जग के लोगों को साथ में जोड़ो। 

आपस में बैर भाव रख कर  मुंह न  मोड़ों।।

नई दिशा कि ओर अग्रसर हो कर अपनें देश का गौरव बढ़ा कर नाता जोड़ों।।

 सरदार भक्तसिंह, राजगुरु,सुखदेव, चन्द्र शेखर नेताओं कि शहादत को भुलाया नहीं जा सकता।

नेता जी सुभाष चन्द्र बोस  कि आज़ाद हिन्द फोज कि सेना और उनके संघर्षों का परिणाम आजादी,

ऐसी महान हस्तियों कि याद को मिटाया नहीं जा  सकता।

आओ इस पावन दिवस पर सब सौहार्द्रपूर्ण मित्रता का हाथ बढ़ा,

इस दिन को और भी खूबसूरत बनाएं।

तिरंगे के जश्न में अपने शहीद भाईयों को नमन कर,

उनका मनोबल बढ़ाएं।।

सबका साथ,सबका विश्वास।

हो सब का भरपूर विकास।।

कर्त्तव्य पालन और परमार्थ  कि आक्षांओं को,

जागृत करने का स्वप्न हो हमारा।।

देश कि सुरक्षा और उत्कर्ष में प्रयत्न शील रहे युवा जन हमारा।।  

राष्ट्र कि नींव  तभी मजबूत बन पाएगी।।

हमारे दिलों में जब  समर्पण कि भावना, 

आत्मबलिदान कि प्रेरणा जग जाएगी।

निर्भय बन कर गुलामी, अत्याचार,

और शोषण के विरुद्ध आवाज उठा पाएगी।।

जन जन फूले फले,हो सब में आत्म विश्वास का भाव।

हो न कभी किसी को  रोटी, कपड़े और मकान का अभाव।

समृद्धि सम्पन्न ,धन धान्य से फले-फूले।

देश विकास कर खुशी से  झूमें,झूले।।

पर हित के यन्त्र को कभी न भूलें।

एकता कि मिसाल कायम कर,

बुलन्दी के शिखर को छू ले।

तिरंगे के जश्न में अपनत्व के एहसास को संजो लें।।

जय हिन्द के नारों से झूमे यह धरती माता।

हम सब को आशीर्वाद का उपहार दे यह विश्वविधाता।

नतमस्तक हो कर गाएं विश्व विजयी तिरंगा प्यारा।।

झंडा ऊंचा रहे हमारा।

झंडा ऊंचा। रहे हमारा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *