आलस्य(कविता)

  जीवन शैली का एक विकार है आलस्य । मनुष्य  का निकटवर्ती शत्रु है आलस्य।। सुबह का अमूल्य समय  जो सो कर   हैं गंवाते। वह जीवन में कभी भी तरक्की की सीढी नहीं चढ़ पाते।। अपना समय  निरर्थक बातों में जो हैं गंवाते। अस्त व्यस्त दिनचर्या के कारण किसी भी काम को फुर्ती के साथ… Continue reading आलस्य(कविता)