प्रथम पाठशाला परिवार

सबसे बड़ा विद्यालय है परिवार हमारा ।
परिवार के सदस्य शिक्षक बनकर संवारतें हैं भविष्य हमारा
जिंदगी की पाठशाला में माता शिक्षक है बन जाती ।
प्यार दुलार व डांट फटकार लगाकर हर बात है समझाती ।।
जिम्मेदारी का अहसास ,अनुशासन का पाठ, सम्मान का पाठ भी है सिखलाती।
गुरु व माता बनकर अच्छे संस्कारों को रोपित कर सभ्य इंसान है बनाती ,स्नेह मयी वात्सल्य की छत्र छाया में बच्चे नैतिकता के गुणों का विकास हैं कर पातें ।
मान-मर्यादा और आदर का भाव विकसित कर ,दूसरों को सही दिशा हैं दिखाते ।।
मां बच्चों को अच्छी आदतों का अनुसरण करना है सिखाती,
उनके चरित्र का विकास कर उनका भविष्य उज्जवल है बनाती ।
स्वयं काम करने की आदत है डलवाती ।।
ईमानदारी से काम करना और संघर्षमय जीवन जीना भी है सिखाती।
कर्तव्य पालन बोध का ज्ञान भी उन्हें हैं करवाती ।।

उनके गुणों-अवगुणों को अपना कर बच्चे जीवन में उनकी खुशियों को हैं महकातें ।
परमार्थ और स्वाबलंबी नागरिक बनना भी माता-पिता हैं सिखातें ।
मुसीबत के समय एक दूसरे का साथ निभाना हैं वह सिखाते।।
बच्चों को क्या झूठ क्या सच क्या है उसका अन्तर भी वह है बतलाते।

सुसंस्कार वाले बच्चे सभ्य नागरिक बन जाते हैं।
कुसंस्कारी जीवन की दौड़ में कभी आगे नहीं बढ़ पातें हैं।
जीवन पथ में हताश हो कर सारी उम्र पछताते ही रह जातें हैं।।

बुजुर्ग बच्चों को धार्मिक ग्रन्थों की जानकारियां उन्हें हैं सुनातें।
बड़े-बड़े महान पुरुषों के पदचिन्हों पर चलना उन्हें हैं सिखाते।
उन ही के जैसा महान कार्य करनें की उमंग उन में हैं जगातें ।
बच्चों में स्पर्धा की भावना को भी हैं जगाते ।।

आपस में मिल जुल कर रहना और मिल बांट कर खाना उन्हें हैं सिखाते
विपरीत परिस्थितियों में अपने बचाव और मदद हासिल करनें की सीख हैं सिखातें

लक्ष्य के प्रति समर्पण का भाव जागृत हैं करवातें।
अच्छाई और आत्मविश्वास के साथ काम करनें का हौंसला उन्हें हैं दिलवातें ।

माता पिता की सीख बच्चे की दुनिया है बदल देती ।
कठिन संघर्षों पर चल कर उन्हें शानदार जीत है दिलवाती ।
माता पिता के आदर्शों का पालन करना उन्हें हैं सिखाती
उनके व्यक्तित्व को निखार कर उनका सुनहरा भविष्य है बनाती।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *