ईमानदार मोची

एक चमड़े का व्यापारी था वह बहुत ही कंजूस था। लोगों को लूट लूट कर अपना जीवन यापन कर रहा था। वह लोगों को बेवकूफ बनाकर उनका पैसा वस्तुएं हड़प कर लेता था उसको अगर कोई उसके साथ बहस करता तो वह उसको बहुत ही नीचा दिखाता था। कोई भी व्यक्ति उसके आगे अपनी जुबान… Continue reading ईमानदार मोची

Posted in Uncategorized

दो ठग

, हमें मित्रता हमेशा समझदार इंसान से ही करनी चाहिए। मित्र हमेशा सोच समझकर ही बनानी चाहिए। हमें अपने दोस्त या मित्र बनाते समय उन्हें जांच की कसौटी पर परख लेना चाहिए कि वह मित्र हमारा वफादार है या नहीं। इसके लिए हमें हमेशा मित्र का चुनाव करते समय सोच समझकर चुनाव करना चाहिए। यह… Continue reading दो ठग

Posted in Uncategorized