न्याय की गुहार

रोहित अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था। उसके माता-पिता मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखते थे। उसके माता पिता ने अपने बेटे की परवरिश में कोई कसर नहीं छोड़ी थी वह भी हमेशा अपने माता पिता का आदर सम्मान करता था।वह बड़ा हो चुका था अपने माता पिता के संस्कार उसमें कूट-कूट कर भरे पड़े… Continue reading न्याय की गुहार

Posted in Uncategorized

जादुई शौल

चिंटू मिंटू और बिट्टू तीनों पक्के दोस्त थे। तीनों बच्चों के माता-पिता अपने बच्चों के साथ पहाड़ी स्थल पर यात्रा करने गए हुए थे। देहरादून पहुंचने पर वह दूसरे दिन रमणीय स्थल को देखने निकल पड़े तीनों बच्चे साथ-साथ चल रहे थे। उनके माता पिता ने उन्हें कहा बेटा साथ साथ ही रहना आगे मत… Continue reading जादुई शौल

Posted in Uncategorized