तीन जांबाज

तीन दोस्त थे कुंवर वीर बाहूू विषमबाहु और सहस्रबाहु वे तीनो बहुत बहादुर थे। उनकी बहादुरी की मिसाल दूर-दूर तक फैली थी। एक दिन उन्होंने एक पत्रिका में जूनागढ़ की खंडहर हवेली के बारे में पढ़ा पत्रिका में जूनागढ़ की खंडर हवेली के बारे में पढ़कर उन्होंने सोचा कि वहां जाया जाए। वहां पर पहुंचकर… Continue reading तीन जांबाज

Posted in Uncategorized

आत्मविश्वास

सीता और गीता स्कूल में इकट्ठे शिक्षा ग्रहण कर रही थी। सीता के माता पिता ऑफिस में काम करते थे।सीता मेहनती लड़की थी एक दिन उसके माता-पिता ने उसे अपने पास बुलाया और कहा बेटा हम चाहते हैं कि तुम हमें बताओ कि तुम आगे चलकर क्या बनना चाहती हो। वह बोली मां पापा यह… Continue reading आत्मविश्वास

Posted in Uncategorized