अनपढ़ बहु

रुपेश कारगिल की वादियों में एक सिपाही के रूप रूप में तैनात था वह अब की बार छुट्टियों में अपनी बहन के पास गांव आया हुआ था गांव में आ कर उसे अपने बचपन के दिन यादें ताजा हो गई। वह हर साल अपनी बहन के पास कुछ दिन के लिए उसके पास आ जाता… Continue reading अनपढ़ बहु

Posted in Uncategorized

मौनी बाबा और नन्हे जासुस

यह कहानी आदिवासी लोगों की है। जिन लोगों के पास घर नहीं थे वह झुग्गी-झोपड़ियों में रहते थे। इन्हीं झुग्गी-झोपड़ियों में एक बहुत ही प्यारा सा बच्चा था  चेतन। वह फटी हुई कमीज बाल बिखरे हुए दौड़ता दौड़ता हर रोज भागकर एक कुटिया के पास जाकर रुक जाता था। वहां पर एक बाबा जी को… Continue reading मौनी बाबा और नन्हे जासुस

Posted in Uncategorized

राम और रहीम

बहुत समय पहले की बात है किसी गांव में दो भाई रहते थे राम और रहीम। राम गरीब था। और रहीम अमीर। राम सोचा करता था कि हम दोनों एक ही मां-बाप का खून है हम दोनों में एक ही भिन्नता है दोनों किसी कारणवश अलग हो गए राम गरीब था परंतु सौभाग्यवश रहीम अमीर… Continue reading राम और रहीम

Posted in Uncategorized