अब पछतावे होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत

किसी गांव में रोशनी नाम की एक औरत रहती थी ।वह भिक्षा मांग मांगकर अपना जीवन यापन कर रही थी। वह बहुत ही आलसी थी। वह कभी भी नहीं सोचती थी कि मेहनत करके भी वह अपना पेट भर सकती है। गांव के लोग उसे कहते थे कि तुम्हें भगवान ने काम करने के लिए… Continue reading अब पछतावे होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत

Posted in Uncategorized

चुहे और बिल्ली की दोस्ती

सुखबीर और पारो एक छोटे से घर में रहते थे पारो हर रोज घर की सफाई करती रसोई में हर रोज उसे रोटी के छोटे-छोटे टुकड़े मिलते। उसने एक दिन अपने पति सुखबीर को कहा कि मैं गाय को हर रोज  रोटी रखती हूं परंतु यह रोटी तो हर रोज चूहा कुतर जाता है। यह… Continue reading चुहे और बिल्ली की दोस्ती

Posted in Uncategorized