गुलमोहर

शीतल अपने माता-पिता की इकलौती बेटी थी। उसके माता पिता गरीब थे उन्होंने उसे बड़ी मुश्किल से पढ़ाया। पढ़ लिखकर वह चाहती थी कि मैं अपने माता-पिता को सारी खुशियां दूंगी। उसके माता पिता ने अपनी बेटी को पढ़ाने के लिए बहुत ही कठोर परिश्रम किया। वह अपनी मां को सारी सारी रात कपड़े सिलती… Continue reading गुलमोहर

Posted in Uncategorized

सबक

संगीता और वीरू की जिंदगी बहुत ही खुशहाल थी। वह दोनों अपनी बेटी के साथ बहुत ही खुश थे। वीरू कॉलेज में एक सुपरिंटेंडेंट के पद पर आसीन थे। दिन इसी तरह व्यतीत हो रहे थे कॉलेज में वीरु के दोस्त की बेटी ने प्रवेश लेना था। उसे वहां प्रवेश नहीं मिल रहा था तभी… Continue reading सबक

Posted in Uncategorized

एक भूल का पश्चाताप

पहाड़ की तलहटी पर एक छोटा सा गांव था वहां पर एक औरत रहती थी उसका नाम था पारो। उसका छोटा सा बेटा था किशन। पारो और उसका पति अपने बच्चे किशन के साथ एक छोटे से गांव में रहते थे। उनके पास एक छोटा सा खेत था जिसमें दिन रात मेहनत करके वह अपने… Continue reading एक भूल का पश्चाताप

Posted in Uncategorized